ads

Breaking News

महाभारत की सबसे खूबसूरत रानी, खूबसूरती देखकर राजा हो जाते थे मोहित

महाभारत की 3 सबसे खूबसूरत रानी
महाभारत की सबसे खूबसूरत रानी

महाभारत काल में एक से बढ़ एक योद्धा हुए। महाभारत में कुछ ऐसे भी योद्धा थे जो कभी भी दुश्मनों के सामने हार नहीं मानते थे। उनके अंदर युद्ध लड़ने का एक अद्भुत कला मौजूद था। आज हम उन महान योद्धाओं के बारे में बात नहीं करेंगे बल्कि आज तो हम उन खूबसूरत महिलाओं के बारे में बात करेंगे जिन्होंने ना सिर्फ रिश्तो को अच्छे से संभाला बल्कि संपूर्ण महाभारत में एक अद्भुत भूमिका निभाई।
1- गंगा
शांतनु की पहली पत्नी गंगा दिखने में तो बहुत खूबसूरत थी लेकिन वह जिस काम को करने की ठान लेती थी उसे हर हाल में पूरा करके ही छोड़ती थी चाहे वह काम अच्छा हो या बुरा। गंगा की खूबसूरती से मोहित होकर राजा शांतनु ने विवाह का प्रस्ताव भेजा। जिसे गंगा ने भी स्वीकार कर लिया लेकिन गंगा ने विवाह के लिए 3 अजीब शर्त रखी। पहली यह कि वह कभी भी किसी बात को लेकर सवाल नहीं करेंगे। दूसरी यह कि सही कार्य हो या गलत यदि गंगा को उस कार्य को करने में रुचि है तो उस कार्य को करने के लिए वह कभी नहीं रोकेंगे। तीसरी यह कि उन्होंने पूर्व की 2 शर्तों में से किसी भी एक शर्त को तोड़ा तो वह उन्हें बिना बताए छोड़ कर चली जाएगी।
शांतनु ने भी सभी शर्तों को मान ली और गंगा से विवाह रचा ली, लेकिन गंगा जितने भी पुत्र को जन्म देती थी उन्हें नदी में बहा देती थी शांतनु को बिना बताए। इस तरह गंगा सात पुत्रों को बहा चुकी थी और जब वह आठवें पुत्र को बहाने जा रही थी उसी समय शांतनु अपने आप को रोक नहीं पाए और सवाल पूछ लिया। तब गंगा ने बताया यह आठों वसु थे जिन्हें एक श्राप के चलते धरती पर जन्म लेना पड़ा है और मैं उन श्रापो से मुक्ति दिला रहा हूं लेकिन अब आप शर्तों का उल्लंघन कर चुके हैं इसीलिए मैं धरती को छोड़कर स्वर्ग लौट रही हूं। इस तरह उन्होंने प्राण का बलिदान दे दिया।
2- द्रौपदी
जब द्रौपदी ने स्वयंवर रचाई थी उस समय कर्ण के गले में वरमाला डालकर विवाह करना चाहती थी लेकिन दरबार के कुछ षड्यंत्रकारियों ने बीच सभा में कर्ण को सूत पुत्र बोल कर चिड़िया ताकि द्रौपदी निर्णय बदल दे ऐसा हुआ भी। अंत में द्रौपदी का विवाह पांचों पांडवों में हो गया। पांचों पांडवों से शादी करने के बाद भी द्रौपदी अपनी छवि को खराब होने नहीं दिया और अंत तक अपने वजूद को बचाए रखा। पांचों पांडवों के कई पत्नियां थे फिर भी द्रौपदी ने अपना औहदा जमा कर रखा था।
3- भानुमति
भानुमति खूबसूरत होने के साथ-साथ अन्य कार्यों में भी पारंगत थी। जैसे युद्ध लड़ना, भला फेक, to कुश्ती कला आदि। भानुमति दुर्योधन की पत्नी थी। लेकिन भानुमति दुर्योधन से शादी नहीं करना चाहती थी क्योंकि वह किसी और को चाहती थी। दुर्योधन उसकी खूबसूरती को देख कर शादी करना चाहते थे। इसलिए वह उसका हरण करके शादी रचा लिया। फिर भी भानुमति कभी भी पति धर्म को पालन करने में कोई कमी नहीं की और सदा दुर्योधन का सम्मान और आदर किया करते थे। दुर्योधन और पुत्र लक्ष्मण की मौत के बाद उन्हें गहरा धक्का लगा था फिर भी वह अपने आप को संभाल कर रखा था। लेकिन कुछ बुद्धिजीवी कहते हैं बाद में भानुमति ने अर्जुन के साथ शादी कर ली थी।

No comments