ads

Breaking News

48 घंटों में प्रदेश के 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मूसलाधार बारिश का अलर्ट जारी

करीब 10दिन के अंतराल के बाद एक बार फिर मानसून पूरे पर मेहरबान हो गया है। मौसम विभाग ने अगले 48घंटों में प्रदेश के 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग के बुलेटिन में कहा गया है। कि बारिश का सिलसिला लगातार जारी रहेगा। वहीं भोपाल, रायसेन, विदिशा, सीहोर, होशंगाबाद एवं हरदा जिलों में बहुत भारी बारिश हो सकती है।

28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी: मौसम विभाग ने अगले 36 घंटों में भोपाल, रायसेन, विदिशा, सीहोर, होशंगाबाद एवं हरदा जिलों में बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके अलावा रीवा, सतना, सिंगरौली, सीधी, पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़, सागर, दमोह, अनूपपुर, शहडोल, डिंडौरी, उमरिया, मंडला, बालाघाट, नरसिंहपुर, जबलपुर, कटनी, सिवनी, छिंदवाड़ा, बैतूल एवं अशोकनगर जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

48 घंटों में प्रदेश के 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

केरल में भारी बारिश के बाद बाढ़ ने भयंकर तबाही मचाई है. जगह-जगह लैंडस्लाइड की वजह से 26 लोगों की मौत हुई है और कई लोग लापता हैं. कन्नूर, इडुक्की, कोझिकोड, वायनाड, मल्लपुरम सबसे प्रभावित इलाक़े हैं. एर्नाकुलम, अलापुझा और पलक्कड़ ज़िले भी प्रभावित हैं. कई इलाक़ों में रेड अलर्ट जारी किया गया है. बाढ़ प्रभावित इलाक़ों से लोगों को निकाल कर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया जा रहा है.

NDRF की 6 टीमों को राहत और बचाव के अभियान में लगाया गया है. कुछ और टीमें बुलाई गई हैं. इसके अलावा सेना भी रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है. बाढ़ की वजह से हालत इतने खराब हैं कि जगह सड़कें बह गई हैं. रेलवे ट्रैक को भी नुक़सान पहुंचा है.


नई दिल्ली उत्तर प्रदेश और बिहार में मानसून की सक्रियता से भारी बारिश हो सकती है. मौसम पूर्वानुमानकर्ता स्काइमेट ने अगले 24 घंटों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ इलाकों में तेज बारिश की संभावना जताई है. स्काइमेट के अनुसार, दोनों प्रदेशों में कुछ जगहों पर मध्यम और कुछ जगहों पर भारी बारिश हो सकती है. इन इलाकों में बिजली कड़कने की घटना भी हो सकती है.

लगातार बारिश के चलते, दोनों ही राज्यों की नदियों के जल स्तर में वृद्धि हो सकती है. उत्तर प्रदेश में गोमती, घाघरा, सरयू और रामगंगा में नदियों का जल स्तर बढ़ सकता है, वहीं बिहार में नारायणी, बागमती और कोशी के जलस्तर में इजाफा हो सकता है.

No comments